अमेरिकी युद्ध अपराधों का संक्षिप्त विवरण

अमेरिकी युद्ध अपराधों का संक्षिप्त विवरण

September 14, 2021 0 By admin

एक “व्हिसलब्लोअर” की कहानी पर आधारित

शेखर

[इनपुट : अमेरिकी पत्रिका ‘ट्रुथआउट’ में प्रकाशित मार्जोरी कोहन का एक निबंध]


अमेरिकी सैनिकों द्वारा ड्रोन हमले बड़े पैमाने पर शुरू हैं. इतिहास बताता है कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि अमेरिका का राष्ट्रपति कौन है – कोई रिपब्लिकन या फिर कोई डेमोक्रेट। एक अनुमान के अनुसार, “2004 के बाद से अमेरिकी सैन्य और सीआईए ड्रोन अभियानों में 9,000 से 17,000 लोग मारे गए हैं, जिनमें 2,200 बच्चे और यहां तक कि कई अमेरिकी नागरिक भी शामिल हैं। ओबामा के 8 साल के कार्यकाल के दौरान कुल 1878 ड्रोन हमले हुए। जब डोनाल्ड ट्रम्प कार्यालय में आए, तो उनके पहले दो वर्षों के दौरान ही 2,243 ड्रोन हमले किए गए। अब जो बिडेन आये हैं. उन्होंने भी ड्रोन हमले की नीति को जारी रखने का वादा किया है, यहां तक कि अफगानिस्तान में उनहोंने बाजाप्ता डंके की चोट पर यह शुरू भी कर के दिखा दिया है।

यही नहीं, उनके प्रशासन ने यह भी बिलकुल पूरी स्पष्टता से साबित कर दिया है कि अमेरिकी युद्ध अपराधों पर से पर्दा उठाने की हिम्मत करने वालों (व्हिसलब्लोअर) को सजा देने में भी वे अपने पूर्ववर्तियों से आगे हैं. अमेरिकी प्रशासन ने क़ानून की अंतरात्मा को रौंदते हुए यह साबित कर दिया है कि यदि कोई अमेरिकी युद्ध अपराधों और संयुक्त राज्य अमेरिका के ऐसे युद्ध अपराधों के वास्तविक उद्देश्य और उद्देश्यों को प्रकट करने का साहस करता है, तो उसे विधिवत दंडित किया जाएगा और इसके लिए जिस कानून का सहारा लिया जायेगा वह जासूसी के अपराधों से सम्बंधित है जिसका उद्देश्य जासूसों को सजा देना हैं न कि किसी “व्हिसलब्लोअर” को।  हाल ही में 27 जुलाई, 2021 को, वर्जीनिया के अलेक्जेंड्रिया में एक संघीय जिला अदालत के न्यायाधीश ने अमेरिकी युद्ध अपराधों के सबूतों का खुलासा करने के लिए एक पूर्व अमेरिकी वायु सेना के खुफिया विश्लेषक डैनियल हेल को जासूसी अधिनियम का उपयोग करके 45 महीने के लिए जेल में भेज दिया।

तो यह है नए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन का लोकतंत्र के प्रति समर्पण! ऐसी है उनकी लोकतांत्रिक साख है! यह कितनी बड़ी बात है कि बाइडेन पहले राष्ट्रपति बने हैं जिनके प्रशासन को जासूसी अधिनियम के तहत किसी “व्हिसलब्लोअर” को अमेरिकी इतिहास में पहली बार सजा देने का गौरव प्राप्त हुआ है!! हेल जासूसी अधिनियम के तहत सजा पाने वाले पहले व्यक्ति हैं परन्तु निश्चय ही वे अंतिम व्यक्ति साबित नहीं होंगे.

डैनियल हेल रहस्यों को इसलिये उजागर कर सके क्योंकि 2015 में उनकी नौकरी (काम) में ड्रोन हमलों के लिए लक्ष्य की पहचान करना शामिल था। उन्होंने एक पत्रकार, द इंटरसेप्ट के जेरेमी स्कैहिल को गुप्त सैन्य दस्तावेज और अमेरिकी ड्रोन कार्यक्रम के चौंकाने वाले विवरण वाले स्लाइड प्रदान किए। हेल ​​के खुलासे ने अमेरिकी युद्ध अपराधों को वैसे उजागर किया जैसा कि पहले कभी नहीं हुआ और यह 15 अक्टूबर, 2015 को द इंटरसेप्ट द्वारा प्रकाशित प्रसिद्ध “द ड्रोन पेपर्स” का आधार बन गया।

लीक हुए दस्तावेज़ इसलिये भी ज्यादा चौंकाने वाले थे क्योंकि ये दस्तावेज ओबामा प्रशासन की “किल्ल चेन” (kill chain) के रहस्यों का भी खुलासा किया। ‘किल्ल चेन’ वास्तव में क्या था? यह दरअसल सेल फोन से प्राप्त सिग्नल इंटेलिजेंस पर आधारित एक एक हत्याकारी लक्ष्य योजना थी, जिसके आधार पर यह तय किया जाता था और निर्धारित किया जाता था कि एक-एक करके किसे निशाना बनाया जाए। अधिक चौंकाने वाली बात यह है कि इसका उपयोग अघोषित युद्ध क्षेत्रों में किया गया था जिसका अर्थ है कि इसकी वजह से बेशुमार नागरिक मारे गए थे। इस तरह के आधे हमलों का इस्तेमाल यमन और सोमालिया में सिर्फ अनुमान के आधार पर संभावित लक्ष्यों की पहचान करने के लिए किया गया था, और वहां यह आज भी जारी है।

“ड्रोन पेपर्स” ने खुलासा किया कि “पांच महीने की अवधि के दौरान, जनवरी 2012 से फरवरी 2013 के बीच, ड्रोन हमलों से मारे गए लोगों में से लगभग 90 प्रतिशत लक्षित लक्ष्य नहीं थे।” यानी, मारे गये लोग मासूम निरपराध नागरिक थे. फिर भी ओबामा प्रशासन ने बदनामी से बचने के लिये मारे गए आम नागरिकों को “कार्रवाई में मारे गये दुश्मनों” यानी आतंकवादियों के रूप में वर्गीकृत किया गया और ऐसा ही घोषित किया गया. “ड्रोन पेपर्स” में हेल को ओबामा प्रशासन के इस सामान्य और सरल सिद्धांत के बारे में कहते इस तरह उद्धृत किया गया है – “आसपास पकड़ा गया कोई भी व्यक्ति (आतंकवादियों के) साथी होने का (स्वतः) दोषी है।” (“anyone caught in the vicinity is guilty by association.”)

क्या यह जानबूझकर की गई कार्रवाई है? हां, असल बात यही है। “ड्रोन पेपर्स” से पता चलता है कि “ड्रोन हमले समुदायों को आतंकित करते हैं।” हेल का अपना कहना (submission) यह है कि “युद्ध (आतंक के खिलाफ तथाकथित युद्ध) का अमेरिका को आतंक से बचाने या अमेरिका में आतंकी कार्रवाई को रोकने आदि के घोषित लक्ष्य से बहुत कम लेना-देना था. इसका असली मकसद हथियार निर्माताओं और तथाकथित रक्षा ठेकेदारों के मुनाफे की रक्षा के लिए बहुत कुछ करना था।”

ड्रोन हमलों का एक और महत्वपूर्ण उद्देश्य अमेरिकी सैन्य सदस्यों को नुकसान से बचाना है। यह एक Over-the-horizon हमला की रणनीति का हिस्सा है और यह अमेरिकी सैन्य बलों तथा सैनिकों की ओर से की जाने वाली कायरताभरी कार्रवाई है जो जमीनी और आमने-सामने की लड़ाई में भाग लेने की हिम्मत ही नहीं कर पाते हैं। भावनात्मक तनाव का बोझ हालांकि इन्हीं ड्रोन ऑपरेटरों द्वारा वहन किया जाता है जो दूरस्थ लक्ष्यीकरण का निर्णय लेते हैं और फिर उसे लागू करते हैं. निस्संदेह कुछ ड्रोन ऑपरेटर काफी संवेदनशील होते हैं. वे भी सोचने और तर्क करने की क्षमता से लैस इंसान हैं और हथियार उद्योगों के लाभ के लिए निर्दोष लोगों के साथ हो रहे अन्याय को भी वे समझ सकते हैं. ऐसे लोगों की संख्या निश्चय ही कम है, लेकिन ऐसे लोग भी होते हैं और उनमे से कई व्हिसलब्लोअर भी बनते हैं. संवेदनशील ऑपरेटर अक्सर पोस्ट-ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (PTSD) से पीड़ित हो जाते हैं। जो और ज्यादा तनाव नहीं बर्दाश्त कर सकते हैं, वे व्हिसलब्लोअर बन जाते हैं। हेल ​​​​ने अमेरिकी जिला न्यायाधीश लियाम ओ’ग्राडी, जिन्होंने उन्हें 45 महीने के लंबे कारावास की सजा सुनाई, से कहा, – “मेरा मानना ​​​​है कि किसी को मारना गलत है, लेकिन रक्षाहीनों को मारना विशेष रूप से गलत है।” इस तनाव के पीछे की चिंता का एक पक्ष यह भी है कि ऐसी हत्यायें मासूम निर्दोष अमेरिकियों के लिये, जिनकी सुरक्षा के नाम पर ऐसे ड्रोन हमले किए जाते हैं, और अधिक हिंसक आतंकी हमलों के खतरे पैदा करती हैं। अमेरिका में हेल ​​जैसे संवेदनशील उदारवादी विचार लोगों का एक बड़ा वर्ग है जिसका मानना ​​है कि ड्रोन हमले अमेरिका को और अधिक असुरक्षित बना रहे हैं। इसलिए उन्होंने न्यायालय में जज के सामने कहा कि “उन्होंने उसी चीज़ का खुलासा किया जो इस झूठ को दूर करने के लिए जरूरी था कि ड्रोन हमें सुरक्षित रखता है, कि हमारा जीवन अन्यों के मुकाबले ज्यादा मूल्यवान है।” उन्होंने आगे कहा कि “आपको अपना काम करते रहने के लिए अपने विवेक को मारना होता था।”

यहां कोई भी देख सकता है कि अमेरिकी ड्रोन ऑपरेटर किस तरह के और कितनी अधिक मात्रा में असह्य दबाव में अपना काम करते हैं!

खुलासे वास्तव में ज्यादा चौंकाने वाले हैं। हेल ​​ने सजा सुनाए जाने से पहले के अपने पत्र में सजा सुनाने वाले न्यायाधीश को एक विशेष घटना के बारे में बताया। उन्होंने वर्णन किया कि कैसे उसने पहाड़ों में मोटरसाइकिल पर सवार एक व्यक्ति को ढूंढा, जो चार अन्य लोगों से मिला और कुछ समय बाद वे एक कैम्प फायर के आसपास बैठे चाय पी रहे थे। मैंने इस सूचना को प्रसारित किया जिसके परिणामस्वरूप एक ड्रोन हमला हुआ, जिसमें सभी पांच लोगों की मौत हो गई। वह जो कर रहा था, उसके प्रति उसके मन में एक गहरी सोच पैदा हो गई। उसने महसूस किया कि वह “अब किसी नैतिक या तर्कसंगत चीज का हिस्सा नहीं है।” उसने किसी को यह कहते सुना था कि “आतंकवादी कायर होते हैं” क्योंकि वे तात्कालिक विस्फोटक उपकरणों (आईईडी) का इस्तेमाल करके लोगों पर दूर से वार करते थे। “क्या अलग है,” हेल ने पूछा, “उस और छोटी लाल जॉयस्टिक के बीच जो हजारों मील दूर से एक बटन को धक्का देती है?” वह इस घटना का इन भयावह शब्दों में एक जीवंत वर्णन रखता है : “शांति से इकट्ठा होने के बावजूद, किसी के लिये खतरे का कोई कारण नहीं होने के बावजूद, उन चाय पीने वाले पुरुषों का भाग्य पूरा हो गया था। मैं बस चुपचाप बैठा देखता रह सकता था जब कम्प्यूटर मॉनिटर के माध्यम से मैंने यह गौर किया कि अचानक और डरावनी हेलफायर मिसाइलों (hellfire missiles) का एक झोंका सुबह पहाड़ों के किनारे बैंगनी रंगों वाली क्रिस्टल गट्स बिखेरता हुआ फट पड़ा।”

माई लाइ कत्लेआम, वियतनाम (1968)

इन खुलासे के लिए हेल को दंडित किया गया था, हालांकि इन खुलासे से राष्ट्रीय सुरक्षा को कोई खतरा पैदा नहीं था, यहां तक ​​कि दूर से भी नहीं। उन्होंने बस इस तरह के हमलों के पीछे छिपी साजिश का पर्दाफाश किया क्योंकि उनकी अंतरात्मा ने विद्रोह कर दिया था। सीआईए के कई अधिकारी समर्थन में आए, लेकिन कुछ भी फायदा नहीं हुआ, क्योंकि उनके खुलासे से ‘आतंक के खिलाफ युद्ध’ के पीछे के लाभ की मंशा उजागर होती थी जो राष्ट्रीय सुरक्षा के खतरे में पड़ने की तुलना अधिक खतरनाक बात है। राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश, बराक ओबामा, डोनाल्ड ट्रम्प और जो बाइडेन, सभी ने अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन करते हुए अन्य देशों पर बम गिराने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया है। बिना किसी अंतर के सभी ने अपने प्रशासन को निर्दोष लोगों को मारने के लिए प्रेरित किया है। जो बाइडेन ने अफगानिस्तान में नवीनतम घटनाओं के मद्देनजर ड्रोन हमलों को जारी रखने का जो खुला वायदा किया है वह भी इसे पूरी तरह से पुष्ट करता है कि इस तरह के हमले अन्य देशों में भी जारी रहेंगे।

यह अनुमान लगाया गया है कि अमेरिकी सेना और सीआईए के ड्रोन ऑपरेशन ने 2004 से अब तक 9000 से 17000 लोगों को मार डाला है, जिसमें 2200 बच्चे सहित और कई अमेरिकी नागरिक भी शामिल हैं। अमेरिकी सेना ड्रोन अभियानों में मारे गए सभी व्यक्तियों को “कार्रवाई में मारे गए दुश्मन” के रूप में लेबल करती है।

बुश ने लगभग 50 ड्रोन हमलों को अधिकृत किया जिसमें पाकिस्तान, यमन और सोमालिया में 296 कथित “आतंकवादी” और 195 नागरिक मारे गए। ओबामा ने ड्रोन से मारे गए लोगों की संख्या में भारी वृद्धि की। ओबामा ने अपने पूर्ववर्ती की तुलना में 10 गुना अधिक ड्रोन हमलों के आदेश दिये और उनकी निगरानी व अध्यक्षता की। ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म के अनुसार, अपने दो कार्यकालों के दौरान, ओबामा ने पाकिस्तान, यमन और सोमालिया में 563 हमले किए – जिनमें अधिकांश बड़े पैमाने के ड्रोन हमले थे, जिनमें अनुमानतः 807 नागरिक मारे गए। जब ओबामा प्रशासन के 18-पृष्ठ के राष्ट्रपति नीति मार्गदर्शन (पीपीजी) को सार्वजनिक किया गया, तो यह सभी के लिए स्पष्ट हो गया कि यह “सक्रिय शत्रुता के क्षेत्रों” के भीतर नहीं उसके बाहर वाले इलाकों में ड्रोन जैसे घातक बल के उपयोग की इजाजत देता था और उसके लिए रूपरेखा तैयार करने वाला मार्गदर्शन था।

2011 का न्याय विभाग का एक गुप्त श्वेत पत्र भी 2013 में लीक हुआ था जिसमें अमेरिकी नागरिक की हत्या की अनुमति भी प्रदान की गयी थी, महज इस आशंका के आधार पर (और “स्पष्ट सबूत के बिना भी” ) कि “अमेरिकी हितों पर एक विशिष्ट हमला तत्काल भविष्य में होगा।” हालांकि ओबामा प्रशासन के पीपीजी ने घातक बल के इस्तेमाल से पहले “निश्चित रूप से एक पहचाना गया एचवीटी [उच्च मूल्य वाला आतंकवादी] या अन्य वैध आतंकवादी लक्ष्य” के मौजूद होने को अनिवार्य बनाया था, लेकिन ये केवल जनता को धोखा देने के लिए ही था, क्योंकि वही ओबामा प्रशासन “हस्ताक्षर हमलों” के नाम पर “सैन्य आयु के पुरुषों को लक्षित करता है जो संदिग्ध गतिविधि के क्षेत्र में मौजूद थे।” यही कारण है कि “ड्रोन पेपर्स” के खुलासे ऐसे सभी ‘अच्छे’ इरादों वाले “चेक

और बैलेंस” पर सवाल उठाते हैं।

अबु घ्रेब जेल में इराकी कैदियों के साथ यातनाएं (इराक, 2003)

ट्रम्प ने बार को और भी नीचे कर दिया – “निश्चितता के निकट” से “उचित निश्चितता” तक। ट्रम्प के समय जाहिर है लक्ष्य “उच्च-मूल्य वाले आतंकवादियों” तक सीमित नहीं रहे, बल्कि “पैदल सैनिक” भी इसमें शामिल हो गये। यही नहीं, ट्रम्प ने क्षेत्र में कमांडरों को लक्ष्य निर्धारण निर्णय लेने की अनुमति दी और पेंटागन और सीआईए को ड्रोन हमले करने के लिए अधिक अधिकार दिए। उन्होंने सोमालिया और यमन में लक्ष्यीकरण नियमों को और कमजोर करते हुए कहा कि वे सभी “सक्रिय शत्रुता के क्षेत्र” हैं। ट्रम्प ने नागरिक हताहतों पर रिपोर्ट करने की सरकार की प्रतिबद्धता को भी समाप्त कर दिया।

बाइडेन ने अफगानिस्तान पर और अधिक ड्रोन बम धमाकों का किया वादा

अब यह जानकर आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि बाइडेन ने ड्रोन बम विस्फोटों को जारी रखने का वादा किया है। हालांकि यह व्यापक रूप से बताया गया है कि मार्च, 2021 में बाइडेन ने ड्रोन हमलों पर अस्थायी सीमा निर्धारित की, विशेष रूप से मान्यता प्राप्त युद्ध क्षेत्रों या युद्धक्षेत्रों के बाहर के क्षेत्रों में। निश्चित रूप से उन पर ट्रंप के द्वारा पूर्व के नियमों में दी गयी ढील की व्यापक समीक्षा करने का दबाव है। लेकिन किसी भी स्थिति में वे ड्रोन बमबारी को नहीं रोकने वाले हैं। अफगानिस्तान की हालिया घटनाओं के बाद यह अब बहुत स्पष्ट हो चुका है। उसके प्रशासन के तहत अफगानिस्तान में नवीनतम घटनाओं में क्या कुछ किया गया है दुनिया को पता है। जो पूरी तरह से स्पष्ट है वह यह है कि हालांकि बाइडेन अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों को वापस बुला रहा है, लेकिन वह ड्रोन हमलों सहित हवाई हमले करना जारी रखे हुए है। इस बीच, सोमालिया में ड्रोन बमबारी अभी भी जारी है और नवीनतम हमला विगत 20 जुलाई को हुआ है।

जहां तक ​​अफगानिस्तान के भविष्य का संबंध है, एक सैन्य अधिकारी के इस बयान से साफ हो जाता है जिसमें कहा गया है कि “हम इसे (ड्रोन बमबारी) जहां और जब भी संभव हुआ है करते रहे हैं, और (आगे भी) जहां और जब संभव होगा हम इसे करते रहेंगे।” यह अहम रिपोर्ट भी सार्वजानिक हो चुकी है कि “वायु सेना दक्षिण एशिया और मध्य पूर्व में अमेरिकी साम्राज्य के पदचिन्हों को बनाए रखने के लिए $ 10 बिलियन का अनुरोध कर रही है।”

30 जून को, वेटरन्स फॉर पीस सहित 113 संगठनों ने “ड्रोन के उपयोग सहित किसी भी मान्यता प्राप्त युद्धक्षेत्र के बाहर घातक हमलों के गैरकानूनी कार्यक्रम को समाप्त करने की मांग करने के लिए” बाइडेन को एक पत्र लिखा, लेकिन बाइडेन प्रशासन ने इससे पूरी तरह से मुंह मोड़ लिया है। उलटे इसने 27, 28 और 29 अगस्त को अफगानिस्तान में ड्रोन बमबारी अभियान शुरू कर दिया। यह पूरे तौर पर बिना लागलपेट के कहा जा रहा है कि “अमेरिकी सैनिक अफगानिस्तान और अन्य जगहों पर ‘ओवर-द-हॉरिज़न’ सैन्य अभियान जारी रखेंगे।”

अमेरिका अब भी अफगानियों को मार रहा है

इससे किसी को आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि अमेरिका अभी भी अफगानियों को मार रहा है, वो भी ड्रोन हमलों द्वारा।  20 साल लंबे अमेरिका के नेतृत्व वाले नाटो के अफगानिस्तान पर आक्रमण और कब्जे के अवैध युद्ध (जिसे दुनिया के सामने ‘आतंक पर युद्ध’ की बड़ी योजना के तहत “ऑपरेशन एंड्योरिंग फ्रीडम’ के रूप में पेश किया गया) को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने समाप्त करने के औपचारिक निर्णय की घोषणा जरूर कर दी, लेकिन उसके बावजूद अमेरिका अभी भी आतंकवाद के खिलाफ निगरानी करने और उन पर अंकुश लगाने के लिए ‘उचित’ कदम उठाने की योजना के नाम पर अफगानिस्तान में हत्याओं का सिलसिला जारी रखे हुए है. अफगानिस्तान की हालिया घटनाओं ने साबित कर दिया है कि नये राष्ट्रपति जो बाइडेन  भी अपने पूर्ववर्ती की तरह हैं और उनकी तर्ज़ पर ही एक ट्रिगर-हैप्पी राष्ट्रपति हैं जो कभी भी अफगानिस्तान को पूरी तरह से मुक्त करने तथा अफगानी जनता को स्वयं अपने मुस्तकबिल का निर्णय करने देने के लिए सहमत नहीं होंगे, और न ही वे कभी यह स्वीकार करेंगे कि अफगानिस्तान और अफगानिस्तान के लोगों के खिलाफ अमेरिका के नेतृत्व वाले नाटो देशों का 20 साल चला अफगान युद्ध एक अवैध युद्ध था और अफगानिस्तान पर से अभी-अभी ख़त्म हुआ अमेरिकी कब्जा पूरी तरह से अवैध था। इसलिए यह स्वाभाविक है कि जो बाइडेन  और उनका प्रशासन दोनों अफगानियों को मारना जारी रखने का वादा कर रहे हैं, भले ही अमेरिकी सैनिक औपचारिक रूप से अफगानिस्तान से हट गए हों। एक ओर, बाइडेन प्रशासन अफगानिस्तान से सैनिकों की वापसी के निर्णय को पूरा करता है, वहीँ वह किसी न किसी बहाने वहां के लोगों को मारना जारी रखता है, जबकि यह सर्वविदित है कि इसने तालिबान से अपने साम्राज्यवादी भू-राजनीतिक हितों, जो उसके 20 सालों तक चले अफगान कब्जे का मुख्य उद्देश्य था, की गारंटी करवा लेने के बाद और एक साजिशपूर्ण योजना के तहत ही वह तालिबानियों के हाथों में सत्ता सौंपते हुए पीछे हटा है।

पिछले गुरुवार 26 अगस्त की घटना को लें. गुरुवार 26 अगस्त को आई.एस.आई.एस (खुरासान गुट) ने काबुल हवाई अड्डे के बाहर एक आत्मघाती बम विस्फोट किया। 170 नागरिक और 13 अमेरिकी सेवा सदस्य मारे गए। बीबीसी के रिपोर्टर सिकंदर करमानी ने चश्मदीदों का हवाला देते हुए कहा कि विस्फोट के बाद दहशत व गुस्से में अमेरिकी सैनिकों ने बड़ी संख्या में लोगों को गोली मार दी। न्यूयॉर्क टाइम्स ने यह भी बताया कि पेंटागन के अधिकारियों ने यह कहते हुए स्वीकार भी किया है कि गुरुवार को हवाई अड्डे के बाहर कुछ लोगों को अमेरिकी सेवा के सदस्यों ने दहशत में आत्मघाती बमबारी के बाद गोली मार दी होगी।

लेकिन मानों इतना काफी नहीं था, और 27 अगस्त को, अगले ही दिन, बाइडेन प्रशासन ने फिर से एक ड्रोन हमले के साथ जवाबी कार्रवाई की। फजीहत होने पर अमेरिकी फौज के सेंट्रल कमांड ने यह कहते हुए इसे ख़ारिज कर दिया कि ‘हमें इसमें किसी नागरिक के हताहत होने की खबर नहीं है’ लेकिन ‘द गार्जियन’ अखबार ने बताया कि यूएस ड्रोन हमले में तीन नागरिक मारे गए और चार घायल हुए हैं. 27 अगस्त को ही, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर सभी पक्षों से सभी परिस्थितियों में अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून के तहत अपने दायित्वों का सम्मान करने के लिए कहा, जिसमें नागरिकों की सुरक्षा से संबंधित मामले भी शामिल हैं। लेकिन फिर, हम जानते हैं कि अमेरिका ने शायद ही कभी सुरक्षा परिषद के ऐसे बयानों की परवाह की है. इसीलिए हम पाते हैं कि दो दिनों बाद ही, 29 अगस्त को, बाइडेन प्रशासन ने फिर से काबुल में एक ड्रोन हमला किया, हालांकि इस बार सेंट्रल कमांड द्वारा सामने आकर यह बताने की जहमत उठाने की भी कोशिश नहीं की गयी कि इस बार नागरिक हताहत हुए या नहीं, अगर हुए तो कितने हुए। यह एक मानव रहित “ओवर-द-होराइजन” हवाई हमला था। अत्यधिक परेशान करने वाला तथ्य यह है कि बिडेन  प्रशासन ने अफगानिस्तान में और अधिक “ओवर-द-होराइजन” हमले करने व संचालित करने का “वादा” किया है. अमेरिकी मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का मानना है कि अमेरिका यह सब “अफगानिस्तान में आतंकवादी खतरों की निगरानी” के नाम पर (आगामी दिनों में) अफगानिस्तान की सीमाओं से परे फारस की खाड़ी से हवाई हमलों को अंजाम देने की एक दूरगामी योजना बना कर रहा है। जानकारों का कहना है कि यह सब “सैनिकों की वापसी के बाद की अमेरिकी स्ट्रेटेजी” का हिस्सा है।  

अमेरिका की जनता के लिए 20 साल लंबे अफगान युद्ध का परिणाम कतई सुखद नहीं रहा और न ही हो सकता था. अमेरिकी जनता को कम से कम 2.26 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर का नुकसान हुआ है और इसके परिणामस्वरूप 2300 से अधिक अमेरिकियों की मौत (हजारों अफगान नागरिकों की हुई मौत के अलावे) हुई है। अगर हम अगर हम 20 साल पीछे जाकर इतिहास को याद करें, तो जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने 2001 में “ऑपरेशन एंड्योरिंग फ्रीडम” के झूठ और फरेब से भरे नारे के साथ ‘आतंक पर युद्ध’ का एक अत्यंत अन्यायकारी तथा निर्मम अभियान शुरू किया था। इससे पूरी दुनिया में अनगिनत लोगों की हत्या हुई और अनगिनत लोगों को अमानवीय यातना तथा दुर्व्यवहार सहना पड़ा, विशेष रूप से अफगानिस्तान, इराक, ग्वांतानामो और सीआईए के ब्लैक साइट्स में।

लेकिन, साथ ही, जैसा कि मार्जोरी कोहन [1]लिखती हैं, – “इसने संयुक्त राज्य अमेरिका में दक्षिणपंथी आतंकवाद को भी बढ़ावा दिया है और अमेरिकी राज्यसत्ता को मुसलमानों और सरकार की नीति का विरोध करने वालों की सर्वव्यापी निगरानी का बहाना प्रदान किया है। अमेरिकी युद्ध अपराधों का पर्दाफाश करने वालों को जासूसी अधिनियम के तहत लंबी जेल की सजा से ‘पुरस्कृत’ किया गया है।”

हम यह भी नहीं भूल सकते कि इराक में क्या हुआ था। हमें वियतनाम में अमेरिकी जुल्मों को भी नहीं भूलना चाहिए। सच्चाई तो यही है कि अमेरिकी प्रशासन लोकतंत्र की रक्षा और विस्तार के नाम पर विश्व मानवता के खिलाफ किए गए अंतरराष्ट्रीय अपराधों का सबसे बड़ा एवं मुख्य आरोपी है। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि अमेरिका ने न केवल अफगानिस्तान, बल्कि दुनिया के सभी महाद्वीपों में स्थित कई देशों को तबाह कर दिया है और अभी भी कर रहा है। सोमालिया और यमन में अमेरिका अभी क्या कारनामे कर रहा है यह किसे पता नहीं है?  

11 सितंबर, 2001 को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर और पेंटागन पर आतंकवादी हमले के एक महीने से भी कम समय के भीतर अफगानिस्तान पर पहली बार 7 अक्टूबर, 2001 को बमबारी शुरू की गई थी। कूटनीति और कूटनीतिक साधनों के लिए कोई स्थान नहीं दिया गया था, भले ही अफगानिस्तान के तत्कालीन शासक (तालिबान) ओसामा बिन लादेन को किसी तीसरे तटस्थ पक्ष देश को सौंपने के लिए तैयार था। नवंबर, 2001 में, अमेरिकी रक्षा सचिव डोनाल्ड एच. रम्सफेल्ड ने एक शांति समझौते पर बातचीत के प्रयास के जवाब में कहा था – “संयुक्त राज्य अमेरिका आत्मसमर्पण के लिए बातचीत करने के लिए इच्छुक नहीं है।”

मार्जोरी कोहन  लिखती हैं – “अफगानिस्तान पर अवैध आक्रमण और कब्जे और इसके परिणामस्वरुप शुरू हुए “आतंक के खिलाफ युद्ध” ने असंख्य युद्ध अपराधों को अंजाम दिया, जिसमें चली भयंकर यातना में नागरिकों को निशाना बनाने का लक्ष्य शामिल था।”  वे आगे लिखती हैं – “बुश के प्रशासन ने यातना और दुर्व्यवहार का एक व्यापक कार्यक्रम बनाया और उसे स्थापित किया। । वह आगे लिखती हैं कि “सीनेट सेलेक्ट कमेटी ऑन इंटेलिजेंस की 2014 की एक रिपोर्ट में वाटरबोर्डिंग (waterboarding), जो यातना और अन्य “उन्नत पूछताछ तकनीक का मानक है”, का पहले ही दस्तावेजीकरण हो चुका था. बंदियों को दीवारों से टकराकर पटक दिया जाता था; छत से लटका दिया जाता था; पूर्ण अंधेरे में रखा जाता था; नींद से वंचित जाता था, कभी-कभी सात दिनों तक जबरन खड़े रहने के साथ-साथ घंटों तक टूटे हुए अंगों पर खड़े रहने के लिए मजबूर किया जाता था; फांसी पर लटकाने का नकली निष्पादन (mock drill) किया जाता था; 11 दिनों के लिए एक ताबूत जैसे बक्से में बंदकिया जाता था; बर्फ के पानी में नहाया जाता था और डायपर पहने रहने के लिए मजबूर किया जाता था।”

वे यह भी लिखती हैं कि – “5 मार्च, 2020 को, अंतर्राष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय (ICC) ने “आतंक पर युद्ध” में किए गए यातनाओं सहित युद्ध अपराधों के लिए यूएस, अफगान और तालिबान अधिकारियों की औपचारिक जांच का आदेश दिया। अंतर्राष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय (ICC)  के अभियोजक ने यह मानने के लिए उचित आधार पाया कि अमेरिकी नीति के अनुसार CIA के सदस्यों ने युद्ध अपराध किए थे। इनमें अफ़ग़ानिस्तान, पोलैंड, रोमानिया और लिथुआनिया में हिरासत में रखे गए लोगों के ख़िलाफ़ यातना और क्रूर व्यवहार, और व्यक्तिगत गरिमा पर अपमान, बलात्कार और यौन हिंसा के अन्य रूप शामिल थे।”

लोकतांत्रिक ओबामा कोई अपवाद नहीं थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि “ओबामा प्रशासन के दौरान भी, ग्वांतानामो में बंद कैदियों को जबरदस्ती खाना खिलाया जाता था, जो यातना देने का ही एक अन्य तरीका है।” रिपोर्ट में कहा गया है कि कम से कम देशों में ड्रोन बमबारी के इस्तेमाल, जो कि “संयुक्त राष्ट्र चार्टर और जिनेवा सम्मेलनों” के उल्लंघन का मामला है, के लिए ओबामा का प्रशासन जिम्मेदार था.

ओबामा के बाद, डोनाल्ड ट्रंप आए और इराक और सीरिया में हवाई हमले किए जिसमें रिकॉर्ड संख्या में निरपराध नागरिक मारे गए। ये सब “संयुक्त राष्ट्र चार्टर और जिनेवा सम्मेलनों” के उल्लंघन में किया गया था। सच तो यही है, और इसे पूरी दुनिया जानती है कि अमेरिका ने ऐसे उल्लंघनों के आरोपों की कभी कोई परवाह नहीं की है।ट्रंप के बाद जो बाइडेन आए हैं जिन्हें पुरानी नीतियों को उलटना था। अफगानिस्तान हाल घटनाओं हालांकि जो लोग मानना ​​था कि वे अलग तरह से कार्य करेगा के कई की आंखों खोल दिया है।


[1] मार्जोरी कोहन थॉमस जेफरसन स्कूल ऑफ लॉ में प्रोफेसर एमेरिटा, नेशनल लॉयर्स गिल्ड के पूर्व अध्यक्ष और इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक लॉयर्स के ब्यूरो के सदस्य और वेटरन्स फॉर पीस के सलाहकार बोर्ड के सदस्य हैं। उनकी पुस्तकों में शामिल हैं ड्रोन और लक्षित हत्या: कानूनी, नैतिक और भू-राजनीतिक मुद्दे।