Category: कृषि संकट

September 11, 2021 0

किसान आंदोलन की दशा व दिशा तथा इसका समर्थन कर रही मजदूर वर्गीय ताकतों का कार्यनीतिक संकट

By admin

एकमात्र सर्वहारा राज्य ही किसानों की सभी फसलों की उचित दाम पर खरीद की गारंटी दे सकता है, क्योंकि एकमात्र वही राज्य है जो मुनाफा के लिए नहीं मेहनतकशों की जिंदगी में बुनियादी सुधार तथा खुशहाली लाने के लिए उत्पादन व्यवस्था का संचालन कर सकता है।

September 11, 2021 0

संताल हुल: एक अशेष विद्रोह

By admin

1855 का संताल हुल आदिवासियों के साहस और प्रतिशोध की गाथा है; शोषण के प्रतिकार और अपने अस्तित्व को बचाने की कहानी है। इतिहास के पन्नों में हुल को एक ऐसी घटना के रूप में अंकित किया जाता है जिसकी एक निश्चित शुरुआत हुई और फिर एक निश्चित अंत हुआ। प्रस्तुत लेख का मानना है कि हुल की शुरुआत तो हुई, लेकिन उसका अंत नहीं हुआ।

May 23, 2021 0

कृषि मालों पर इजारेदार पूंजी के आधिपत्य का अर्थ, इजारेदाराना कीमतों के सीमित संदर्भ में

By admin

सवाल छोटी पूंजियों को बचाने का नहीं है, क्योंकि इसे बचाया ही नहीं जा सकता है। मुख्‍य सवाल यह है कि आज जो स्थिति है और यह जिस ओर बढ़ रही है उसको देखते हुए मजदूर वर्ग की मुक्ति का रास्‍ता सिवाय इसके और कुछ नहीं हो सकता है कि सर्वहारा क्रांति के जरिये समाज के पुनर्गठन और समाजवाद की पूर्ण विजय के लक्ष्‍य को सामने रखते हुए आगे के रास्‍तों का अनुसरण किया जाए। किसानों को यह बात बतानी जरूरी है, उनके निर्धनतम हिस्से को इस रास्ते पर लाना जरूरी है और इसलिये किसान आंदोलन में इस दिशा से हस्तक्षेप अत्यावश्यक है। अन्‍य छोटी व मंझोली पूंजियों के साथ भी यही बात है कि उन्‍हें भी सर्वहारा वर्ग की अधीनता में आना होगा तभी उनके जीवन का सार बचेगा। जहां तक उनकी वर्तमान उत्‍पादन पद्धति का है, उसका सर्वहारा वर्ग का राज्‍य अंत कर देगा, क्‍योंकि उसके अंत में ही मानवजाति के सार को बचाने का मूलमंत्र छिपा है। पूंजीवादी उत्‍पादन संबंध के नाश में उन सबका बचाव है जिसमें बड़ी पूंजी की मार से तबाह होते सारे तबके व संस्‍तर शामिल हैं।