Category: अर्थव्यवस्था

November 14, 2021 0

आधुनिक मौद्रिक सिद्धांत (MMT)

By admin

पूंजीवाद का संकट श्रमिकों की कम क्रयशक्ति के कारण कम खपत का परिणाम नहीं, बल्कि उत्पादन संबंधों और उत्पादित माल पर स्वामित्व में बुनियादी अंतर्विरोध का नतीजा है। इसलिए, इन संकटों के समाधान की मांग है, निजी संपत्ति मालिकों के मुनाफे के लिए संचालित व्यवस्था के बजाय उत्पादन के समाजीकरण के साथ ही उत्पादन के साधनों के स्वामित्व के भी समाजीकरण पर आधारित सामूहिक सामाजिक जरूरतों की पूर्ति के लिए योजनाबद्ध उत्पादन की समाजवादी प्रणाली।

October 17, 2021 0

एवरग्रैंड

By admin

एम असीम चीनी दरवाजे पर दस्तक दे रहा पूंजीवादी आर्थिक संकट ठीक जिस वक्त पुराना ब्रिटिश साम्राज्यवादी मुखपत्र ‘द इकोनॉमिस्ट’…

September 11, 2021 0

देश की अर्थव्यवस्था का बुरा हाल

By admin

आज अर्थव्यवस्था का अत्यंत बुरा हाल है। मोदी सरकार की बदइंतजामी, नाकामी तथा पूंजी की खुली-नंगी तरफदारी ने आर्थिक संकट को और बढ़ा दिया है। आम लोगों की खस्ताहाल स्थिति बढ़ती जा रही है। पहले की तुलना में एक बहुत बड़ी आबादी भुखमरी के कगार पर पहुंच गयी है।
बात साफ है कि गरीबों और मेहनतकशों को अपने वर्ग हित के लिए आवाज बुलंद करनी होगी और संघर्ष की राह पर चलते हुए एक नयी दुनिया व समाज बनाने के लिए कमर कसना होगा।